शुक्रवार, 17 अप्रैल 2009

बुलबुल ने गाना छोड़ दिया

आतंरिक सुरक्षा के डर से , बुलबुल ने गाना छोड़ दिया
गोरी ने पनघट पर जाकर , गागर छलकाना छोड़ दिया
अब कौन संभालेगा घर की , इन गिरती हुई दीवारों को
लगता है आने वाला है,मौसम फिर से अंगारों का

अब रस का रास कहाँ होता , है नाटक नित तलवारों का
फूलों की आँखों में आंसू , उतरा है रंग बहारों का
लगता है आने वाला है , मौसम फिर से अंगारों का

काँटों के झूठे बहुमत से , हर सच्ची खुसबू हार गई
जो नही पराजित हुए ,उन्हें मलिन की चितवन मर गई
हो गया जवानी में बूढा , सब यौवन मेघ मल्हारों का
लगता है आने वाला है ,मौसम फिर से अंगारों का

1 टिप्पणी:

  1. we have to fight for our motherland & we will win definatly.sir you convey your feeling very well. i admire it.
    a lots of thanks for such a verse.
    ARUN JAMIA ABVP

    उत्तर देंहटाएं